अपना उत्तर प्रदेशअयोध्याताज़ातरीन

राज ठाकरे के अयोध्या दौरे ने बढ़ाया सियासी पारा, पोस्टर वॉर पर प्रशासन का एक्शन

Raj Thackeray: महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे के अयोध्या दौरे ने सियासी पारा बढ़ा दिया है. अयोध्या की सड़कों पर पोस्टर वॉर छिड़ा है, जिस पर अब प्रशासन ने कार्रवाई की है. अयोध्या की सड़कों-चौराहों पर लगे होर्डिंग को अब हटा दिया गया है. इन्हें लगे चंद घंटे भी नहीं हुए थे कि जिला प्रशासन ने इन्हें उतरवा दिया. 

दरअसल शिवसेना की पोस्टर लगा था, जिसमें एक तरफ बाला साहब ठाकरे, उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे की तस्वीर थी तो दूसरी तरफ भगवान श्रीराम की तस्वीर, साथ ही लिखा है- असली आ रहा है, नकली से सावधान. ये राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस की तरफ से लगाए गए उस पोस्टर का जवाब था जिस पर लिखा था- राज तिलक की करो तैयारी आ रहे हैं भगवाधारी. अयोध्या प्रशासन ने इस बढ़ते पोस्टर वार को भांपते हुए शिवसेना और एमएनएस दोनों के होर्डिंग्स और पोस्टर्स को उतरवा दिया.

बीजेपी सांसद कर रहे हैं दौरे का विरोध

एक तरफ शिवसेना में पोस्टर वार छिड़ा है तो दूसरी तरफ राज ठाकरे के अयोध्या दौरे ने सियासी पारा बढ़ा दिया है.  एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने राज ठाकरे के अयोध्या दौरे का खुलकर विरोध करने की बात कही है.

बृजभूषण सिंह ने राज ठाकरे से उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने और अयोध्या जाने से पहले उत्तर भारतीयों से माफी मांगने को कहा है. उन्होंने कहा कि अगर राज ठाकरे उत्तर भारतीयों से माफी मांगे बिना अयोध्या आते हैं तो उन्हें अयोध्या में नहीं घुसने देंगे. बृजभूषण सिंह ने इसे लेकर पोस्टर लगवाए, जिसमें लिखा है, “उत्तर भारतीयों को अपराधी कहने वाले राज ठाकरे माफी मांगो या फिर वापस जाओ.

बता दें कि राज ठाकरे 5 जून को अयोध्या का दौरा करने वाले हैं. वहीं, महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे देश भर से शिवसेना कार्यकर्ताओं के साथ 10 जून को अयोध्या जाएंगे. दोनों नेताओं ने कहा है कि वे अयोध्या में राम जन्मभूमि पर राम लला का आशीर्वाद लेंगे.

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि अयोध्या में शिवसेना के स्वागत की तैयारियां शुरू हो गई हैं. आदित्य ठाकरे देश भर से शिवसेना कार्यकर्ताओं के साथ 10 जून को अयोध्या जाएंगे और रामलला का आशीर्वाद लेंगे. यह बिल्कुल भी राजनीतिक नहीं है, यह हमारे विश्वास के लिए है.

यह भी पढ़ें

Back to top button