अपना उत्तर प्रदेश

Hardoi DM office: डीएम कार्यालय पर तैनात महिला क्लर्क ने लगाई फांसी

हरदोई में कलेक्ट्रेट (Hardoi DM office) के संयुक्त कार्यालय में एलबीसी स्थानीय निकाय क्लर्क के पद पर तैनात मधु शुक्ला (54) ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली...

हरदोई में कलेक्ट्रेट (Hardoi DM office) के संयुक्त कार्यालय में एलबीसी स्थानीय निकाय क्लर्क के पद पर तैनात मधु शुक्ला (54) ने गुरुवार दोपहर कोयल बाग कॉलोनी स्थित सरकारी आवास में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

उनके पति उमेश शुक्ला का आरोप है कि मधु के खिलाफ शस्त्र घोटाला में जांच चल रही थी। आरोपों का जवाब देने के लिए वो कलेक्ट्रेट गई थी। वहां जिला अधिकारी अविनाश कुमार और अपर जिला अधिकारी वंदना त्रिवेदी ने उन्हें सेवा से बर्खास्त कर जेल भेजने की धमकी दी। इससे आहत होकर उन्होंने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

Hardoi DM office: पहले भी लग चुके हैं आरोप

नगर मजिस्ट्रेट सदानंद गुप्ता ने कहा कि घटना बहुत दुखद है। हम सबकी पूरी संवेदना उनके परिवार के साथ है। उन्होंने कहा कि पुलिस जांच के बाद ही घटना का कारण स्पष्ट हो सकेगा। परिवार के लोगों ने बताया कि राज्यसभा सांसद अशोक वाजपेयी की सिफारिश के बावजूद भी अधिकारियों ने एक न सुनी। डीएम, एडीएम और प्रशासन ने मिलकर मधु को मार दिया है।

परिजनों ने डीएम पर एफआईआर और उनको जेल भेजने की मांग की है। लोगों का कहना है कि मधु शुक्ला का कार्यकाल सदैव विवादित रहा। तत्कालीन जिलाधिकारी सत्यजीत ठाकुर के कार्यकाल में कलेक्ट्रेट में हुई भर्तियों में उन पर अपने रिश्तेदारों की भर्तियां कराने का आरोप लगा था।

डिप्रेशन में थी मधु

8 जुलाई 2019 को मधु शुक्ला पर प्रशासन ने शिकंजा कसा था। तत्कालीन डीएम पुलकित खरे ने मधु शुक्ला को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। उनके ऊपर शस्त्र खरीददारी और लाइसेंस देने में अनियमिता बरतने के आरोप लगे थे।

इन आरोपों के बाद ही उन पर जांच बैठ गई और संतोषजनक उत्तर न देने पर उन्हें निलंबित किया गया। उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू हो गई थी। बाद में वो हाईकोर्ट से स्टे लेकर बहाल जरूर हो गई थी, लेकिन विभागीय जांच चलती रही। जांच अब अपने अंतिम चरण में थी, जिसकी वजह से मधु शुक्ला काफी डिप्रेशन में थी।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button