अपना उत्तर प्रदेशयूपी चुनाव 2022

UP CHUNAV 2022: सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिए नाम बदलने के संकेत, आजमगढ़ हो सकता है आर्यमगढ़

UP Assembly Election 2022: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ का नाम बदलकर आर्यमगढ़ करने का संकेत सपा के गढ़ से दे दिए हैं.

आजमगढ़: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) का तूफानी दौरा जारी है. शनिवार को समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party)  अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के सांसदीय क्षेत्र में सीएम योगी (CM Yogi) विपक्ष पर जमकर हमला बोला.सीएम योगी ने कहा कि आजमगढ़ ने भले ही दो-दो पूर्व मुख्यमंत्री दिए हो, लोकसभा में सांसद चुनकर के भेजे हों. लेकिन, उनके कारण आजमगढ़ की पहचान धूमिल ही हुई है, पहचान का संकट दुनिया के सामने उन्होंने ही खड़ा किया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ का नाम बदलकर आर्यमगढ़ करने का संकेत सपा के गढ़ से दे दिए हैं. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज जिस विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी गई है. यह विश्वविद्यालय आजमगढ़ को सचमुच ”आर्यमगढ़” बना ही देगा. इसमें अब कोई संदेह होना ही नहीं चाहिए. 

‘अखिलेश को चुनाव आते ही जिन्ना बहुत महान दिखने लगे हैं’
सीएम योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा कि मैं आजमगढ़ वासियों से पूछता हूं क्या करोना काल में आप के सांसद आपका हाल-चाल लेने आए थे. चुनाव में यह लोग कभी कभी आएंगे और गुमराह करके चले जाएंगे. भारतीय जनता पार्टी ने जो कहा था वह करके दिखाया. उन्होंने आगे कहा कि जैसे ही चुनाव आया है. अखिलेश जी को जिन्ना बहुत महान दिखने लगे हैं. यहां बैठे इतने लोग हैं. बताइये, कोई है जिसको जिन्ना महान लगता है. 

विपक्ष पर साधा निशाना 
सीएम योगी ने कहा कि आजमगढ़ ने भले ही दो-दो पूर्व मुख्यमंत्री दिए हो, लोकसभा में सांसद चुनकर के भेजे हों. लेकिन, उनके कारण आजमगढ़ की पहचान धूमिल ही हुई है, पहचान का संकट दुनिया के सामने उन्होंने ही खड़ा किया है. ये वही आजमगढ़ है, 2017 और 2014 के पहले यहां का नौजवान जब देश के अंदर कहीं जाता था तो होटल में कमरा नहीं मिलता था, धर्मशाला में कमरा नहीं मिलता था, पहचान का एक संकट खड़ा हो गया था. हमें जानना चाहिए कि ये पहचान का संकट खड़ा करने वाले कौन लोग थे, ये वही लोग थे जो जाति के नाम पर बांटने वाले थे, लेकिन अपने परिवार के लिए भरने वाले थे.

ABP कार्यकर्ता की हत्या का भी किया जिक्र
मुख्यमंत्री आदित्यनाथ 14 साल पहले हुए हमले का जिक्र करते हुए कहा कि 2007 में यही आजमगढ़ में मुझ पर हमला हुआ था. उस समय जुबली नेशनल कॉलेज में अजीत राय की इसलिए हत्या हो जाती थी क्योंकि वह ABVP का कार्यकर्ता था और उसने कहा था कि वंदे मातरम का गायन गणतंत्र दिवस पर होना चाहिए. कॉलेज में ही प्रिसिंपल कार्यालय के पास ही उसकी हत्या हुई थी और एक महीने तक FIR तक दर्ज नहीं हुई थी.आज क्या किसी की हिम्मत है. किसी की सरेआम हत्या कर देने की. 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था को लेकर कहा कि आज कोई राह चलती बेटी के साथ अपराध करने की सोच भी नहीं सकता, क्योंकि वह जानता है कि दुर्योधन व दुशासन का क्या हाल हुआ था. पिछली सरकारों में गरीबों के हक का खाद्यान हड़प लिया जाता था, बांग्लादेश भेज दिया जाता था.

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button